जलमंडल

Categories :
समस्त पृथ्वी के लगभग तीन चौथाई भाग पर जलमंडल का विस्तार हैं पृथ्वी का लगभग 29% भाग स्थल तथा 71% भाग पर जलमंडल है I आकर और स्थिति के अनुसार जलमंडल को महासागर , सागर खाड़ी आदि में विभाजित किया गया हैं l महासागरों में प्रशान्त महासागर , हिन्द महासागर तथा आंध्र महासागर प्रमुख हैं जबकि सागरों में आर्कटिक सागर , बेरिंग सागर , मलय सागर , पूर्वी चीन सागर , अंडमान सागर तथा लाल सागर प्रमुख हैं I

महाद्वीपीय मग्नतट

महाद्वीपों के किनारे का वह भाग जो महासागरीय जल से डूबा रहता हैं तथा औसत गहराई लगभग 200 मीटर या 100 फैदम होती है महाद्वीपीय मग्नतट कहलाता हैं I मग्नतटो का चौड़ा तथा सकरा होना महासागरों के किनारे मैदान या पर्वतीय भाग के होने पर निर्भर करता है । जिस स्थान पर महासागर के किनारे पर्वतीय भाग हैं वहां का मग्नतट सकरा होता हैं तथा जहां मैदानी भाग होता हैं वहां का मग्नतट चौड़ा होता हैं l

महासागरों के कुल क्षेत्रफल का 7.5% भाग महाद्वीपीय मग्नतट हैं तथा कुल खनिज तेल तथा गैसों का 20% महाद्वीपीय मग्नतट से प्राप्त होता हैं l

महाद्वीपीय मग्नढाल

जलमग्न तट तथा गहरे सागरीय मैदान के बीच तीव्र ढाल वाले मंडल को महाद्वीपीय मग्नढाल कहा जाता हैं। इसकी गहराई 200 से 2500 मीटर तक होता हैं I

सागरीय मैदान

महाद्वीपीय मग्नढाल से आगे के भाग को सागरीय मैदान कहते हैं । महासागरीय क्षेत्र का सर्वाधिक हिस्सा(75.9%) सागरीय मैदान हैं इसकी गहराई 3000 मीटर से 6000 मीटर तक होता हैं I

इसे भी पढें:- वायुमंडल

महासागर

सम्पूर्ण पृथ्वी के सर्वाधिक भाग(71%) पर महासागर फैला हुआ हैं I पृथ्वी पर जल की अधिकता के कारण इसे नीला ग्रह भी कहा जाता हैं l

महासागरीय जल को कुल 5 हिस्से में विभक्त किया गया हैं —

  1. प्रशांत महासागर
  2. अटलांटिक महासागर
  3. हिंद महासागर
  4. अंटार्कटिका महासागर
  5. आर्कटिक महासागर

प्रशांत महासागर

प्रशांत महासागर जलमंडल का सबसे महत्पूर्ण भाग हैं यह संपूर्ण विश्व का लगभग 1/3 हिस्से में विस्तृत हैं । प्रशांत महासागर अलास्का और एशिया में बेरिंग जल संधि से तथा दक्षिण मे अंटार्कटिका महासागर से जुड़ा हैं

जलमंडल

प्रशांत महासागर सबसे बड़ा , सबसे गहरा तथा त्रिभुजाकर महासागर हैं जिसका सबसे बड़ा द्वीप पापुआ – न्यू – गिनी है तथा विश्व की सबसे गहरी खाई मैरियाना गर्त हैं जिसकी गहराई 11,033 मीटर हैं I

बेरिंग सागर , ओखोटस्क सागर , जापान सागर , चीन सागर , पीला सागर , जावा सागर , अराफुर सागर तथा तस्मान सागर प्रशांत महासागर में हैं l

प्रशांत महासागर के किनारे परिप्रशांत पेटी या प्रशांत महासागर के अग्नि वलय का निर्माण होता हैं I

अटलांटिक महासागर

अटलांटिक महासागर दूसरा सबसे बड़ा तथा दूसरा सबसे गहरा महासागर हैं इसकी आकृति S के आकार की हैं I यह सबसे लवणता (36%) वाला महासागर हैं I

अटलांटिक महासागर का सबसे बड़ा द्वीप ग्रीनलैंड तथा सबसे गहरा गर्त व्यूर्टो रिको है । यह उत्तरी अमेरिका , दक्षिणी अमेरिका , यूरोप तथा अफ्रीका के मध्य विस्तृत हैं I

मध्य अटलांटिक कटक ( सबसे लंबी पर्वत श्रृंखला ) अटलांटिक महासागर के अंदर हैं तथा टेलीग्राफिक पठार उत्तरी अटलांटिक के मध्य अटलांटिक कटक पर स्थित है I

उत्तरी अटलांटिक महासागर में ग्रीन लैंड , कैनेडा का हडसन की खाडी , कैलोबियन खाडी स्थित हैं I डेनमार्क जलसंधि उत्तरी अटलांटिक महासागर में ग्रीनलैण्ड को Ice land से अलग करता है ।

बरमुडा त्रिकोण , फाकलैण्ड द्वीप , जार्जिया आइलैंड ,कैरिबियन सागर उत्तरी अटलांटिक में स्थित है l मध्य अटलांटिक महासागर में डाल्फिन द्वीप हैं जो भूमध्यरेखा के उत्तर में हैं I इसके दक्षिण में स्कोटिया सागर और वेलडेल सागर स्थित है l

आइसलैंड और स्कॉटलैंड के मध्य विविलटानसन जलसंधि है।

अटलांटिक महासागर के तट पर बेफिन की खाडी , हडसन की खाडी , उत्तरी सागर , मेक्सिको की खाड़ी , बाल्टिक सागर स्थित हैं l

हिन्द महासागर

हिन्द महासागर जलमंडल का तीसरा सबसे बड़ा महासागर हैं I यह पूर्व में दक्षिण पूर्वी एशिया तथा ऑस्टेलिया , पश्चिम में अफ्रीका , उत्तर में एशिया तथा दक्षिण मे अटलांटिक महासागर से जुड़ा हैं l

मेडागास्कर हिन्द महासागर का सबसे बड़ा द्वीप है l इसके तटवर्ती सागर लाल सागर तथा फारस की खाड़ी हैं I हिन्द महासागर का सबसे गहरा गर्त सुण्डा गर्त हैं I

हिन्द महासागर एकमात्र ऐसा महासागर हैं जिसका नाम भारत के नाम पर पड़ा हैं I

2 thoughts on “जलमंडल”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *